Sunday, May 27RNI NO CHHHIN/2016/71343

आजम खान ने कहा- ताजमहल शिव जी का मंदिर था और है, उसे गिराना चाहिए

आजम खान ने कहा- ताजमहल शिव जी का मंदिर था और है, उसे गिराना चाहिए-

रामपुर। एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी के पाकिस्‍तान वाले बयान पर सपा के कद्दावर नेता आजम खान ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्‍होंने कहा, हम पाकिस्तान या बांग्लादेश नही जाएंगे। अगर पीएम, भाजपा या आरएसएस हमें यहां नहीं रखना चाहती हैं तो दुनिया के बहुत से मुल्क हैं, यूरोप है, अमेरिका है, हमें वहां भेजें। इतना ही नहीं उन्‍होंने कहा, ताज महल शिव जी का मंदिर था और है। उसे शिव जी का मंदिर ही होना चाहिए। इसके लिए ताजमहल को गिरना चाहिये
क्‍या कहा था ओवैसी ने
आपको बता दें कि ओवैसी ने लोकसभा में कहा था, हमें आज भी पाकिस्तानी कहा जाता है। उन्‍होंने मांग की थी कि एससी-एसटी कानून की तरह ही ऐसा कानून बने कि भारत में किसी को पाकिस्तानी कहा जाए तो ये गैर जमानती अपराध बने। इस पर आजम खान ने कहा, मेरे ख्याल से ये सजा ज्यादा हो जाएगी। ये सब सुनते-सुनते हम आदी हो गए हैं।
कहा- पाकिस्‍तान या बांग्‍लादेश नहीं जाएंगे
उन्‍होंने कहा, हम पाकिस्तान या बांग्लादेश नहीं जाऐंगे। अगर पीएम, भाजपा, आरएसएस और फासिस्ट ताकतें हमें यहां नही रखना चाहती हैं, तो दुनिया के बहुत से मुल्क हैं। यूरोप है, अमेरिका है, वहां भेजें। मैं तो बराबर कह रहा हूं कि हमें प्यार से रहना चाहिए, लेकिन अगर हमारी वजह से बहुसंख्यक परेशान हैं तो बैठकर बात करें रास्ता निकालें। भारत सरकार को ऐसे लोगों से बात करनी चाहिए, जिनको पाकिस्तान भेजने की बात कही जाती है।
ताजमहल को बताया शिवमंदिर
वहीं श्री राम स्तुति से ताज महोत्सव शुरू होने पर आजम खान ने कहा, वह शिव जी का मंदिर था और है। उसे शिव जी का मंदिर ही होना चाहिए। इसके लिए ताजमहल को गिरना चाहिए। मैंने पहले ही मुख्यमंत्री जी से कहा था कि आपके साथ-साथ गिराने चलेंगे। अब लोग आगे चलते हैं और कदम पीछे हटा लेते हैं।
यह तो बस महबूबा का मकबरा है
उन्‍होंने कहा, ताजमहल गुलामी की इतनी बड़ी निशानी है। अगर बाबरी मस्जिद गिराई जा सकती है तो ताजमहल एक बादशाह की महबूबा का मकबरा है। इसे तो अब तक कब का गिर जाना चाहिए था और इसकी जगह भव्य शिव मंदिर बनना चाहिए था। भारत में ताजमहल जैसी चीजें रहेंगी तो हम आने वालेेे को क्‍या इतिहास बताएंगे कि शिव मंदिर तोड़कर शाहजहां ने अपनी महबूबा के लिये मकबरा बनाया।
म‍होत्‍सव का होना चाहिए बायकाट
उन्‍होंने कहा, इस महोत्सव का बायकाट होना चाहिए। मेरे ख्याल से मुख्यमंत्री जी को अपने आदेश से खुद इसे निरस्त कर देना चाहिए। ये सब गलत परंपराएं हैं। और कुछ करना ही है तो कुरानखानी कराएं। मेरे जैसा मुसलमान शिव जी का मंदिर बनवाना चाहता है। उसे गिराने बहुत से मुसलमान चलेंगे मेरे साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *